HBC Headlines

Search
Close this search box.

महिलाओं की मस्जिद से कैसा ऐतराज? झारखंड में बन रही देश की पहली महिला मस्जिद, इमाम से लेकर दरबान तक होंगी महिलाएं

हाइलाइट्स

झारखंड के जमशेदपुर के निकट कपाली ताजनगर में बन रही महिलाओं के लिए मस्जिद.
झारखंड के सराईकेला-खरसांवा जिले की इस मस्जिद में पुरुषों के प्रवेश पर रहेगी प्रतिबंध.
कई स्तरों पर विरोध के बाद समाजसेवी डॉ. नूरुज्जमां खान बनवा रहे महिलाओं की मस्जिद.

सराईकेला-खरसांवा. झारखंड के सरायकेला जिला के कपाली ताज नगर में देश की पहली महिला मस्जिद का निर्माण चल रहा है. ‘सैय्यदा’ ‘जहरा बीबी फातिमा’ मस्जिद इस साल दिसंबर तक छत की ढलाई कर दी जाएगी. यह मस्जिद इस साल के अंत तक बन कर तैयार हो जाएगी. इसके बाद इस मस्जिद में एक साथ 500 महिलाएं नमाज अदा कर पाएंगी. खास बात यह है कि यहां सिर्फ महिलाएं ही नमाज अदा कर सकेंगी और पुरुषों का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित होगा. यहां इमाम से लेकर दरबान तक सभी महिलाएं ही होंगी.

यह मस्जिद समाजसेवी डॉ. नूरुज्जमां खान बनवा रहे हैं. वे चैरिटेबल सोसायटी के जरिए 25 साल से गरीब बच्चियों के लिए मदरसा स्कूल चला रहे हैं. डॉ. खान कहते हैं ‘जब महिलाएं पुरुषों के साथ हज कर सकती हैं तो, मस्जिद जाने में कैसा ऐतराज? इस मस्जिद में महिलाएं बिना बंदिश के धार्मिक रीतियों के पालन के साथ ही जीवन के नए पहलू सीखकर अंधविश्वास दूर करेंगी.

डॉ. नूरुज्जमां खान बताते हैं, महिला दरबानों को विशेष ट्रेनिंग दी जाएगी, ताकि वे खुद के साथ ही यहां आने वाली महिलाओं की सुरक्षा कर सकें. नई मस्जिद मदर्सा स्कूल के बगल में बनाई जा रही है. हालांकि, इस्लामिक धर्म गुरुओं का कहना है कि महिलाएं मस्जिद मे नमाज नहीं पढ़ सकतीं. लेकिन इसके बावजूद डॉ. खान ने जनवरी 2021 में मस्जिद की नींव रख दी.

डॉ. खान बताते हैं कि मस्जिद निर्माण की शुरुआत हुई तो कुछ लोगों ने विरोध किया पर उन्होंने हार नहीं मानी. समाज के प्रबुद्ध लोगों का उन्हें साथ भी मिला है. कई लोगों ने स्कूल से सटी जमीन दान में दे दी, ताकि महिलाओं की इबादतगाह बन सके. अब मस्जिद के साथ ही स्कूल में खेल मैदान, हॉस्टल, कम्प्यूटर लैब, डिजिटल लाइब्रेरी होगी, जिसमें इस्लामिक किताबों के महिलाओं के लिये नमाज पढ़ने के लिये मस्जिद भी होगी.

Tags: Jharkhand news, Mosque, Ranchi news, SARAIKELA NEWS

Source link

HBC Headlines
Author: HBC Headlines

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज